Image
कोरोना के 85 फीसदी मामले सिर्फ 8 राज्यों से

कोरोना के 85 फीसदी मामले सिर्फ 8 राज्यों से


 

नई दिल्लीः केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार  देश भर में कोरोना के 85.5 प्रतिशत इलाजरत मरीज और देश में इस महामारी से हुई कुल मौत में 87 प्रतिशत महाराष्ट्र, दिल्ली और तमिलनाडु समेत आठ राज्यों से हैं। मंत्रालय ने कहा कि उसने शनिवार को कोविड-19 पर मंत्रियों के समूह को देश में महामारी की स्थिति और उससे निपटने के लिए स्वास्थ्य क्षेत्र के आधारभूत ढांचे को तैयार करने के लिए किए जा रहे प्रयासों पर जानकारी दी। केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने वीडियो कांफ्रेंस के जरिए मंत्रिसमूह के बैठक की अध्यक्षता की। 

मंत्रालय ने एक बयान में  “यह उल्लेख किया  कि फिलहाल आठ राज्यों- महाराष्ट्र, तमिलनाडु, दिल्ली, तेलंगाना, गुजरात, उत्तर प्रदेश, आंध्र प्रदेश और पश्चिम बंगाल- से कुल इलाजरत मरीजों में 85.5 प्रतिशत है, जबकि देश में महामारी से होने वाली 87 प्रतिशत मौतें भी इन्हीं राज्यों में दर्ज की गई हैं।” संक्रमित लोगों की संख्या में तेजी से हो रही वृद्धि के बीच हर्षवर्धन ने रेखांकित किया कि देश में कोविड-19 मरीजों के संक्रमण मुक्त होने की दर में भी कुछ सुधार हुआ है और अब वह 58 प्रतिशत से ज्यादा है, जबकि संक्रमण से होने वाली मृत्यु की दर करीब तीन प्रतिशत है। 

 

श्री हर्ष वर्णन ने कहा कि कोविड-19 के करीब तीन लाख मरीज संक्रमण मुक्त हुए हैं। बाकि बचे मरीजों में से भी ज्यादातर संक्रमण मुक्त हुए हैं। हमारे यहां मृत्यु दर तीन प्रतिशत के करीब है, जो दुनिया में सबसे कम है।'' उन्होंने बताया कि कोविड-19 मरीजों की संख्या दोगुनी होने के समय में भी सुधार हुआ है और अब यह 19 दिन है। भारत में शनिवार को एक दिन में सबसे ज्यादा 18,552 मामले सामने आने के साथ ही कोरोना वायरस संक्रमण के कुल मामलों की संख्या बढ़ कर पांच लाख के पार हो गई। देश में इस महामारी से अब तक 15,685 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं

 

YOUR COMMENT

हमारे बारे में

नई पीढ़ी अपने विभिन्न अंकों के माध्यम से नये भारत व वर्तमान समाज के तमाम ज्वलंत सवालों पर न केवल बौध्दिक क्रांन्ति की अलख जगा रहा है वरन् उससे भी एक कदम आगे बढ़ कर ‘‘नई पीढ़ी फाउंडेशन’’ के माध्यम से एक सामाजिक नव जागरण की दिशा में भी आगे बढ़ रहा है। 'नई पीढ़ी फाउंडेशन' अपने विभिन्न मंचों (महिला मंच, अभिभावक मंच, शिक्षक मंच, पर्यावरण मंच) इत्यादि के माध्यम से समाज के विभिन्न वर्गों को नई पीढ़ी के नव निर्माण हेतु कार्य करने को प्रेरित कर रहा है। फाउंडेशन का एक मात्र उद्देश्य नई पीढ़ी को देश का सच्चा नागरिक बनने में सहयोग करते हुये मानव कल्याण के दिशा में प्रेरित करना है।

ON FACEBOOK

CONTACT US