Image
"एनर्जी"

"एनर्जी"


"एनर्जी"

आइए ऊर्जा के मूल अर्थ से शुरू करें:

बिना थके बहुत सक्रिय रहने या बहुत अधिक काम करने की क्षमता।

यदि आप आज की दुनिया में देखें, तो लोग अपने उद्देश्य को पूरा करने के लिए भाग-दौड़ रहे हैं, जिसके परिणामस्वरूप ऊर्जा की कमी हो रही है।

जीवन की विडंबना यह है कि हम हमेशा ऊर्जा प्राप्त करने के लिए बाहरी रूप से तत्पर रहते हैं।

ऊर्जा के आंतरिक स्रोत की पूरी तरह उपेक्षा कर देते है।

ऊर्जा का बाहरी स्रोत तभी काम कर सकता है जब आपकी ऊर्जा का आंतरिक स्रोत नियंत्रण में हो।

लेकिन हम काफी भाग्यशाली हैं कि भले ही हम इसके बारे में नहीं जानते हैं, लेकिन अनजाने में भी इसकी आपूर्ति की जाती है।

एकमात्र तथ्य ये है कि केवल इतना मायने रखता है कि हम अधिकतम उत्पादन प्राप्त करने के लिए जानबूझकर इसका उपयोग कैसे कर रहे हैं?

आपको बैंक खाता पता होना चाहिए:
सेविंग और करंट अकाउंट

सेविंग अकाउंट जमा खाता है जो सीमित लेनदेन की अनुमति देता है, करंट अकाउंट दैनिक लेनदेन के लिए है।

अब यह उपमा लेते हुए, हमे अपने जीवन में बचत खाते का विकल्प चुनना चाहिए क्योंकि हम अपनी ऊर्जा को जितना अधिक बुद्धिपूर्वक और होशपूर्वक खर्च करेंगे, परिणाम उतना ही बेहतर होगा। ये हमें और अधिक ऊर्जा प्रदान करता है। 

याद रखिए की ये हमारी जागरूकता है।

एक और उदाहरण जो हम नही भूल सकते, हम कछुआ और खरगोश की कहानी सुनकर बड़े हुए हैं।

हम इन नामो के उल्लेख से ही समझ सकते है।

विडंबना यह है कि वे जानवर हैं, जिन्हें प्रकृति ने ही उस दायरे में रखा है।

यद्यपि वे ऊर्जा के प्रति सचेत भी रहना चाहते हैं, वे ऐसा नहीं कर सकते।

यदि कछुए को खरगोश की गति का 5% मिलता है, तो आप परिणाम को समझ सकते हैं। और यदि खरगोश को कछुए का 5% मिलता है तो भी आप परिणाम समझ सकते है।

इसलिए मानव होने के नाते, ये हमारा सचेत प्रयास होना चाहिए की हम ऊर्जा का सही उपयोग करें, जो सबसे उपयुक्त रूप से हमें एक बेहतर और लंबे जीवन की ओर ले जाएगा।

याद रखें कि एक बार जब आप सचेत प्रयास शुरू कर देते हैं, तो ऊर्जा को अपना अधिकतम उत्पादन देने के लिए आप इसे बाध्य करते है।

तो ये आपकी पसंद है कि आप ऊर्जा को बर्बाद करें या इसका बुद्धिपूर्वक उपयोग करे?

तृप्ति शुक्ला-मुंबई

YOUR COMMENT

हमारे बारे में

नई पीढ़ी अपने विभिन्न अंकों के माध्यम से नये भारत व वर्तमान समाज के तमाम ज्वलंत सवालों पर न केवल बौध्दिक क्रांन्ति की अलख जगा रहा है वरन् उससे भी एक कदम आगे बढ़ कर ‘‘नई पीढ़ी फाउंडेशन’’ के माध्यम से एक सामाजिक नव जागरण की दिशा में भी आगे बढ़ रहा है। 'नई पीढ़ी फाउंडेशन' अपने विभिन्न मंचों (महिला मंच, अभिभावक मंच, शिक्षक मंच, पर्यावरण मंच) इत्यादि के माध्यम से समाज के विभिन्न वर्गों को नई पीढ़ी के नव निर्माण हेतु कार्य करने को प्रेरित कर रहा है। फाउंडेशन का एक मात्र उद्देश्य नई पीढ़ी को देश का सच्चा नागरिक बनने में सहयोग करते हुये मानव कल्याण के दिशा में प्रेरित करना है।

ON FACEBOOK

CONTACT US