Image
"पोहा"

"पोहा"


"पोहा"

पिछली आर्टिकल में हमने फूड आइटम्स जैसे की वड़ापाव और शक्कर की बात की थी।

हम क्या खाते है, इसका हमारे जीवन में एक महत्व पूर्ण योगदान है।

आप  ये देख ही रहे हैं की आएदिन जो बीमारियां चल रही है, वो कही न कही हमे हमारे खानपान की और इशारा कर रही है।

अब जब खाने की बात निकल ही गई है तो, चलिए बात करते है फूड आइटम पोहे की।

हालही में मेने एक फूड जॉइंट पे पोहा टेस्ट किया।

यकीनन काफी लाजवाब था।

जब में दूसरी बार वहा गई तो उसे समझ आगया की मुझे पोहा बेहद पसंद आ गए है।

उसने तुरंत मुझे पूछा, केसे लगे पोहे मेने कहा बहोत अच्छे।

और क्यू ना हो, कोन अपनी तारीफ सुनना पसंद नही करता।

और जब बात टेस्टी पोहे की हो तो तारीफ तो बनती है।

जिन्होंने ये टेस्टी पोहा बनाए चलिए उसका परिचय करवाते है।

उसका नाम है भवर। ये एक राजस्थानी शेफ है।

सुना था की राजस्थानी के हाथो से बना खाना काफी मज़ेदार होता है। आज चख भी लिया।

इस पोहे पे मसाला, प्याज़, रतलामी सेव, और धनिया पत्ता से गार्निश किया जाता है, इसे और मज़ेदार बनाने के लिए।

और ऊपर से शेफ भवर की एक प्यारी सी मुस्कुराहट जो इस पोहे को और लाजवाब बनाती है।

तो किस बात के लिए आप रुके है। जाइए और लुत्फ़ उठाइए।

तृप्ति शुक्ला-मुंबई

YOUR COMMENT

हमारे बारे में

नई पीढ़ी अपने विभिन्न अंकों के माध्यम से नये भारत व वर्तमान समाज के तमाम ज्वलंत सवालों पर न केवल बौध्दिक क्रांन्ति की अलख जगा रहा है वरन् उससे भी एक कदम आगे बढ़ कर ‘‘नई पीढ़ी फाउंडेशन’’ के माध्यम से एक सामाजिक नव जागरण की दिशा में भी आगे बढ़ रहा है। 'नई पीढ़ी फाउंडेशन' अपने विभिन्न मंचों (महिला मंच, अभिभावक मंच, शिक्षक मंच, पर्यावरण मंच) इत्यादि के माध्यम से समाज के विभिन्न वर्गों को नई पीढ़ी के नव निर्माण हेतु कार्य करने को प्रेरित कर रहा है। फाउंडेशन का एक मात्र उद्देश्य नई पीढ़ी को देश का सच्चा नागरिक बनने में सहयोग करते हुये मानव कल्याण के दिशा में प्रेरित करना है।

ON FACEBOOK

CONTACT US