Image
नई पीढ़ी व वाजा की आनलाइन गोष्ठी 'तंबाकू सेवन खतरे में जीवन' सम्पन्न 

नई पीढ़ी व वाजा की आनलाइन गोष्ठी 'तंबाकू सेवन खतरे में जीवन' सम्पन्न 


नई पीढ़ी व वाजा की आनलाइन गोष्ठी 'तंबाकू सेवन खतरे में जीवन' सम्पन्न 

भुवनेश्वर। नई पीढ़ी पत्र-पत्रिका व राइटर्स एंड जर्नलिस्ट्स एसोसिएशन  के तत्वाधान में उड़ीसा प्रदेश में तंबाकू निषेध दिवस पर एक ऑनलाइन परिचर्चा का आयोजन किया गया। विषय था "तंबाकू सेवन खतरे में जीवन "आयोजन का संचालन प्रतिष्ठित कहानीकार वा शिक्षिका रिमझिम झा ने किया। कार्यक्रम का आरंभ पंडित नीरज चंद्र आर्या के दीप प्रज्वलन एवं सरस्वती वंदना से हुआ। आयोजन के मुख्य वक्ता थे पूर्व संपादक "राज्य सभा टीवी" अरविंद कुमार सिंह । इस दौरान नई पीढ़ी के  मुख्य संपादक  शिवेंद्र प्रकाश द्विवेदी जी ने इस मुहिम को सड़क तक लाने की बात की। मुख्य वक्ता श्री अरविंद कुमार सिंह ने परिचर्चा की शुरुआत उत्कल के खूबसूरत इतिहास को याद करते हुए विषय को बहुत अच्छे से व्यक्त किया उन्होंने इस क्षेत्र में काम करने वाली महिलाओं के प्रति चिंता व्यक्त की और उसके निवारण के लिए भी सरकार से नए पहल के लिए आग्रह किया। बतौर वक्ता झारखंड से लेखिका कल्याणी झा "कनक" ने अपना वक्तव्य रखते हुए इस मुद्दे पर महिलाओं की भूमिका को सराहनीय बताया। आकांक्षा रुपा ने विद्यालयों में कार्यशाला के रूप में चीजों को समझाने की बात कही उन्होंने यह भी बताया कि इस क्रिया द्वारा अपनी बात को नौनिहालों तक आसानी से पहुंचा सकेंगे। कटक से वरिष्ठ शिक्षिका मधुमिता मिश्रा ने अपने वक्तव्य को ओड़िया में ही व्यक्त किया, उन्होंने प्रजा में प्रसार की भूमिका पर जोर देते हुए सिनेमा जगत को भी इसके लिए उत्तरदाई ठहराया, अपने वक्तव्य में उन्होंने उन अभिनेताओं का नाम भी लिया जिन्हें युवा वर्ग अपना रोल मॉडल मान लेते हैं । एसोसिएट एनसीसी ऑफिसर पुष्पमित्रा सारंगी ने अनुशासित जीवन एवं उचित खान-पान के प्रति सभी का ध्यान आकर्षित किया, साथ ही योगाभ्यास को भी ध्यान में रखने की बात कही। अंत में विशेष आमंत्रित वक्ता के रूप में अपनी बात रखते हुए  नई पीढ़ी फाउंडेशन की ओडिशा संयोजक वेदुला रामालक्ष्मी ने कहा कि युवा वर्ग इस विषय को जाने समझे और उचित निर्णय लें। इसे जड़ से हटाना संभव नहीं है, परंतु संतुलित करना संभव है। संचालन के दौरान रिमझिम झा ने इम्यूनिटी सिस्टम को मजबूत रखने की बात कही कि अगर इस समस्या से छुटकारा पाना है तो अपने आंतरिक शक्ति,आंतरिक क्षमता को मजबूत रखना होगा ।
 

अंत में नई पीढ़ी के संस्थापक तथा  राइटर्स एंड जर्नलिस्ट्स एसोसिएशन (वाजा इंडिया) के महासचिव शिवेंद्र प्रकाश द्विवेदी जी ने सभी वक्ताओं का आभार व्यक्त किया,और इस तरह के मुहिम को जन जन तक पहुंचाने की बात कही। अंत में डॉक्टर  ज्योत्सना प्रिया बेहरा ने अध्यक्षीय भाषण में सभी वक्ताओं की बातों को ध्यान में रखते हुए निष्कर्ष निकाला कि "तीव्र इच्छा और लगन से हम चीजों को काबू में ला सकते हैं"
 

संचलिका ने सभी विद्वतजनों को धन्यवाद देते हुए राष्ट्रगान के साथ सभा का समापन किया। इस दौरान पारादीप से सुबोध कुमार झा, तेलंगाना से सरिता सुराणा, एवं ओडिशा से ही  रजनी वर्मा, खंडवा से कीर्ती वर्मा इत्यादि कई गणमान्य व्यक्तियों ने कार्यक्रम में भाग लिया। परिचर्चा सभी मायनों में सफल रही ।

YOUR COMMENT

हमारे बारे में

नई पीढ़ी अपने विभिन्न अंकों के माध्यम से नये भारत व वर्तमान समाज के तमाम ज्वलंत सवालों पर न केवल बौध्दिक क्रांन्ति की अलख जगा रहा है वरन् उससे भी एक कदम आगे बढ़ कर ‘‘नई पीढ़ी फाउंडेशन’’ के माध्यम से एक सामाजिक नव जागरण की दिशा में भी आगे बढ़ रहा है। 'नई पीढ़ी फाउंडेशन' अपने विभिन्न मंचों (महिला मंच, अभिभावक मंच, शिक्षक मंच, पर्यावरण मंच) इत्यादि के माध्यम से समाज के विभिन्न वर्गों को नई पीढ़ी के नव निर्माण हेतु कार्य करने को प्रेरित कर रहा है। फाउंडेशन का एक मात्र उद्देश्य नई पीढ़ी को देश का सच्चा नागरिक बनने में सहयोग करते हुये मानव कल्याण के दिशा में प्रेरित करना है।

ON FACEBOOK

CONTACT US