Image
कोरोना संकट पर सुप्रीम कोर्ट का स्वतः संज्ञान, केंद्र को भेजी नोटिस

कोरोना संकट पर सुप्रीम कोर्ट का स्वतः संज्ञान, केंद्र को भेजी नोटिस


देश में कोरोना महामारी के भयावह स्थिति पर सुप्रीम कोर्ट ने आज  (गुरुवार) को स्वतः संज्ञान लेते हुए केंद्र सरकार को नोटिस जारी किया है. सुप्रीम कोर्ट चाहता है कि ऑक्सीजन और ज़रूरी दवाइयों की आपूर्ति के साथ टीकाकरण को लेकर एक राष्ट्रीय नीति बने. सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायधीश एसए बोबडे ने कहा कि इसे लेकर शुक्रवार को सुनवाई होगी.

सर्वोच्च अदालत में मुख्य न्यायधीश की अध्यक्षता वाली तीन जजों की बेंच ने सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता से कोविड संकट को लेकर राष्ट्रीय योजना पेश करने को कहा है. इससे पहले कोविड को लेकर देश के अलग-अलग छह उच्च न्यायलयों में सुनवाई चल रही थी. मुख्य न्यायधीश ने कहा है कि हालात बेकाबू हो रहे हैं.

सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि छह अलग-अलग उच्च अदालतों में कोविड को लेकर हो रही सुनवाई से कुछ भ्रम की स्थिति पैदा हो सकती है. अब सारे मामलों की सुनवाई सुप्रीम कोर्ट ही करेगा. सुप्रीम कोर्ट ने वरिष्ठ वकील हरिश साल्वे को इस स्वतः संज्ञान मामले में एमिकस क्यूरी नियुक्त किया है. सुप्रीम कोर्ट ने ये भी कहा कि हाई कोर्ट के पास कोविड महामारी को देखते हुए लॉकडाउन लगाने का न्यायिक अधिकार है कि नहीं इसकी भी समीक्षा करेगा.

 

YOUR COMMENT

हमारे बारे में

नई पीढ़ी अपने विभिन्न अंकों के माध्यम से नये भारत व वर्तमान समाज के तमाम ज्वलंत सवालों पर न केवल बौध्दिक क्रांन्ति की अलख जगा रहा है वरन् उससे भी एक कदम आगे बढ़ कर ‘‘नई पीढ़ी फाउंडेशन’’ के माध्यम से एक सामाजिक नव जागरण की दिशा में भी आगे बढ़ रहा है। 'नई पीढ़ी फाउंडेशन' अपने विभिन्न मंचों (महिला मंच, अभिभावक मंच, शिक्षक मंच, पर्यावरण मंच) इत्यादि के माध्यम से समाज के विभिन्न वर्गों को नई पीढ़ी के नव निर्माण हेतु कार्य करने को प्रेरित कर रहा है। फाउंडेशन का एक मात्र उद्देश्य नई पीढ़ी को देश का सच्चा नागरिक बनने में सहयोग करते हुये मानव कल्याण के दिशा में प्रेरित करना है।

ON FACEBOOK

CONTACT US