Image
नई पीढ़ी के लिए नई उम्मीद बनेगा

नई पीढ़ी के लिए नई उम्मीद बनेगा


अरविंद मेहता टेक्नोलॉजी एंड एंटरप्रेन्योरशिप सेंटर  (AMTEC)

 

 मुंबई। भारत देश में स्माल स्केल इंडस्ट्री बड़ी संख्या में है जिनकी समस्या का एक बड़ा कारण स्किल्ड मैनपॉवर का अभाव है,इससे जहां एक  तरफ बेरोजगारी बढ़ रही है,वहीं दूसरी तरफ गुणवत्तापूर्ण सामान की उत्पादकता भी घट रही है,जिसका खामियाजा हमारे उद्योग धंधे भुगत रहे हैं, और फायदा दूसरे देश उठा रहे हैं! भारत सरकार स्किल्ड मैन पावर के लिए चिंतित जरूर है और काम भी कर रही है परंतु इसके लिए तमाम उद्यमियों की संस्था को आगे आए बिना देश का कल्याण होने वाला नहीं है । 

     इस दिशा में ऑल इंडिया प्लास्टिक मैन्युफैक्चरर्स एसोसिएशन नामक संस्था ने मुंबई के अंधेरी ईस्ट के MIDC नामक स्थान पर अरविंद मेहता टेक्नोलॉजी एंड एंटरप्रेन्योरशिप सेंटर  (AMTEC) की शुरुआत कर एक बड़ी पहल की है । हर साल हजारों स्किल्ड मैन पावर को विकसित करने की क्षमता रखने वाले AMTEC  को वेलसेट ग्रुप के  मैनेजिंग डायरेक्टर अरविंद भाई मेहता ने  अपनी गाढ़ी कमाई का एक करोड़ रूपया धनराशि दान देकर   एक इतिहास कायम किया है । और तमाम उद्यमियों के लिए यह प्रेरणा प्रदान की है कि वह भी इसी तरह नई पीढ़ी और देश के लिए  कुछ बड़ा करने का भावना रखें। 

  एक करोड़ की राशि कोई मामूली रकम नहीं होती यदि देखा जाए तो यहां अरविंद भाई मेहता ने  राष्ट्र के नवनिर्माण में भामाशाह का रोल अदा किया है। संभवत: मुंबई में इस तरह के किसी टेक्निकल इंटरप्रेन्योर सेंटर के लिए इतनी बड़ी धनराशि दान करने वाले वह पहले उद्यमी हैं। 

इस कार्य क्रम का उद्घाटन करते हुए सीपेट के डायरेक्टर जनरल एस. के. नायक ने कहा कि इस देश के उद्योग धंधों को सबसे ज्यादा स्किल्ड मैनपावर प्रदान करने वाले संस्थान सीपेट की कमान जिन दिनों मैने सम्हाली उन दिनों सीपेट बहुत घाटे में चल रहा था, सरकार द्वारा इस संस्थान को बंद किये जाने की चर्चा शुरू हो चुकी थी, उस समय अरविंद भाई मेहता देश के प्लास्टिक उद्यमियों की सबसे बड़ी संस्था प्लास्ट इंडिया फाउंडेशन के अध्यक्ष थे। मैने सीपेट के उस मुश्किल दौर में  अरविंद भाई से मदद माँगी, और वह  समूची प्लास्ट इंडिया फाउंडेशन को लेकर पूरी मजबूती से वह सीपेट के साथ खड़े हुए। आज सीपेट बड़ा नाम है, इससे निकले  हुए छात्र देश ही नही विदेशों में भी नाम कमा रहे है। श्री नायक ने कहा कि सीपेट का हर संभव सहयोग AMTEC के साथ होगा। 

इस अवसर पर अपने उदगार व्यक्त करते हुए अरविंद भाई मेहता ने AMTEC के सलाहकार राजू देसाई के प्रयासों की  सराहना की । इसी तरह श्री मेहता ने कैलाश मुरारका, अजय देसाई, जगत किल्ला वाला के योगदान की भूरि-भूरि प्रसंशा की.

       कार्यक्रम में अहमदाबाद से GSPMA के प्रेसीडेन्ट, शैलेश पटेल, बैंगलुरू से KSPA के प्रेसीडेन्ट विजय कुमार, हैदराबाद से TAPMA  के प्रेसीडेन्ट विमलेश गुप्ता AIPMA के सभी पूर्व प्रेसीडेन्ट व समस्त पदाधिकारी मौजूद थे। कार्य क्रम का संचालन AIPMA के सीनियर वाइस प्रेसीडेन्ट किशोर सम्पत ने किया । 

 

 

जानिए कौन हैं अरविंद मेहता ? 

 

गुजरात स्थित जामनगर के मूल निवासी अरविंद मेहता ने अपनी मैट्रिक तक की पढ़ाई म्यामार से की, फिर वतन वापसी के बाद महाराष्ट्र सतारा जनपद के कराड से विज्ञान वर्ग से स्नातक की डिग्री हासिल करने के बाद वह व्यवसाय के लिए मुंबई रवाना हो गए। मुंबई में वर्ष 1968 के दरमियान उन्होंने कल्याण में रहते हुए काफी संघर्ष किया इस बीच उन्होंने एक शिप में काम किया । 

अरविंद मेहता के पिता श्री मथुरादास मेहता अपने होनहार पुत्र की काबिलियत से भलीभांति परिचित थे शायद इसीलिए वे हमेशा अरविंद को उद्योग धंधों से जुड़ने हेतु प्रेरित किया करते थे और यह पिता की प्रेरणा ही थी जिसने अरविंद मेहता को प्लास्टिक का दाना बनाने वाली कंपनी वैल्सेट से जोड़ दिया।अरविंद मेहता ने इस कंपनी का  सुदृढ़  नेतृत्व करते हुये इसे काफी ऊंचाइयों तक पहुंचाया है । इसी के साथ उन्होंने उद्योग जगत की तमाम संस्थाओं का नेतृत्व करते हुए उन संस्थाओं के माध्यम से भारतीय व्यवसाय जगत का काफी भला किया है । बताते चलें कि देश के व्यवसाय  जगत में स्किल्ड मैन पावर की कमी को देखते हुये आज से एक दशक पहले  गुजरात के वापी में प्लास्टइंडिया यूनिवर्सिटी खोलने का सपना उन्होंने ही देखा था । इसके लिए काफी प्रयास कर उन्होंने गुजरात सरकार से 32 एकड़ जमीन भी हासिल की। हलांकि किन्ही कारणों से उनका वह सपना अभी अधूरा है ।

YOUR COMMENT

हमारे बारे में

नई पीढ़ी अपने विभिन्न अंकों के माध्यम से नये भारत व वर्तमान समाज के तमाम ज्वलंत सवालों पर न केवल बौध्दिक क्रांन्ति की अलख जगा रहा है वरन् उससे भी एक कदम आगे बढ़ कर ‘‘नई पीढ़ी फाउंडेशन’’ के माध्यम से एक सामाजिक नव जागरण की दिशा में भी आगे बढ़ रहा है। 'नई पीढ़ी फाउंडेशन' अपने विभिन्न मंचों (महिला मंच, अभिभावक मंच, शिक्षक मंच, पर्यावरण मंच) इत्यादि के माध्यम से समाज के विभिन्न वर्गों को नई पीढ़ी के नव निर्माण हेतु कार्य करने को प्रेरित कर रहा है। फाउंडेशन का एक मात्र उद्देश्य नई पीढ़ी को देश का सच्चा नागरिक बनने में सहयोग करते हुये मानव कल्याण के दिशा में प्रेरित करना है।

ON FACEBOOK

CONTACT US