Image
हम लोगों ने एक उद्दंड पीढ़ी पैदा कर रहे

हम लोगों ने एक उद्दंड पीढ़ी पैदा कर रहे


यह स्त्री के हाथ में ही है कि वह चाहे तो किसी को बसंत बना दे या फिर संत बना दे, महिलाएं स्वस्थ दृष्टिकोण अपनाएं, क्योंकि हम लोगों ने समाज में एक उद्दंड पीढ़ी पैदा कर रहे हैं । मां ने यदि अपने बच्चों को संस्कार नहीं दिए तो निश्चित रूप से दोष माँ का है! सपने देखना अच्छी बात है लेकिन नई पीढ़ी के नवनिर्माण के सपने देखना जरूरी है । इस ऑनलाइन गोष्ठी में सुलझे हुए विचार मिले यहां सभी एक से बढ़कर एक हैं। सारिका बाहेती और  और पल्लवी के विचार जड़े हुए हीरे की तरह  हैं,  आज मुझे आप लोगों से मिलकर सचमुच बहुत खुशी हुई। 

  उपरोक्त विचार देश की प्रख्यात रचनाकार सरोजिनी प्रीतम ने नई पीढ़ी समाचार पत्र /पत्रिका तथा  राइटर्स एंड जर्नलिस्ट एसोसिएशन लेडीज विंग (वाजाल) दिल्ली  के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित  "नई पीढ़ी के नव निर्माण में महिलाओं की भूमिका"  विषयक ऑनलाइन पर परिचर्चा

के दौरान कही। 

कार्यक्रम की शुरुआत में  वाजाल दिल्ली अध्यक्ष अर्चना शौसिल्या ने अतिथियों का स्वागत किया फिर वाजाल महासचिव दिल्ली टीना जिंदल ने एक- एक कर अतिथियों का परिचय  प्रदान किया, तदुपरांत नई पीढ़ी के संपादक शिवेंद्र प्रकाश द्विवेदी ने  इस विचार गोष्ठी की  महत्ता पर प्रकाश डाला  और उन्होंने कहा कि गोष्ठी का जो विषय है  बहुत ही गंभीर है  इस परिचर्चा को हम यही छोड़ने वाले नहीं हैं यह जो चर्चा दिल्ली से चली है,वह दूर तलक जाएगी । 

कार्यक्रम में विशेष आमंत्रित वक्ता के रूप में बोलते हुए  Vectus इंडस्ट्रीज लिमिटेड सारिका बाहेती ने कहा कि  नई पीढ़ी के नवनिर्माण में  महिलाओं की बहुत बड़ी भूमिका है।एक मां के रूप मे  यदि हम बचपन से ही अपने बच्चों का सही पालन पोषण करें तो निश्चित रूप से इस समाज को एक बेहतर नई पीढ़ी मिलेगी । 

 इसी तरह आमंत्रित वक्ता के रूप में बोलते हुए  फिल्म निर्मात्री  डॉक्टर पल्लवी प्रकाश ने कहा कि  औरत होना ही अपने आप में एक त्यौहार है  मां ही अपने बच्चे की सर्वप्रथम गुरु हैं  एक स्त्री को अपनी शक्ति पहचानना होगा  और आपके अंदर जो बेस्ट है उसे नई जनरेशन को देना होगा। 

इसी तरह समाज सेवी नम्रता नारायण ने  कहा की महिलाओं को सपने देखना चाहिए और  और खुली आंखों से देखना चाहिए । अगले क्रम में  लघु उद्यमी सरिता द्विवेदी ने कहा कि  नई पीढ़ी को आगे बढ़ाने के लिए अभिभावकों को भी बदलना होगा  बैठक में राइडर्स एंड जर्नलिस्ट एसोसिएशन वाजा इंडिया दिल्ली के  अध्यक्ष व राज्यसभा टीवी के वरिष्ठ पत्रकार अरविंद कुमार सिंह  ने कहा कि महिलाएं राष्ट्र की नींव है वह खुद को जलाकर रोशनी पैदा करती हैं। नया भारत बेहद मजबूत होगा क्योंकि अब सवाल पूछने वाली पीढ़ी आ रही है। इसी तरह कार्यक्रम का विश्लेषण करते हुए पूर्व आईएएस अधिकारी व देश के प्रतिष्ठित स्तंभकार आर विक्रम सिंह ने कहा कि यहां पर आप सभी महिलाओं ने अपने-अपने क्षेत्रों में उद्यम कर सफलता अर्जित की है। आप सभी लोगों ने एक से बढ़कर एक विचार रखें हैं। आप सभी के विचार निश्चित रूप से मंथन व चिंतन योग्य हैं। 

इस कार्यक्रम का संचालन राइटर्स एंड जर्नलिस्ट एसोसिएशन लेडीज विंग दिल्ली  की अध्यक्ष अर्चना शौसिल्या ने बहुत ही खूबसूरत तरीके से किया ।

 

सरोजिनी प्रीतम

YOUR COMMENT

हमारे बारे में

नई पीढ़ी अपने विभिन्न अंकों के माध्यम से नये भारत व वर्तमान समाज के तमाम ज्वलंत सवालों पर न केवल बौध्दिक क्रांन्ति की अलख जगा रहा है वरन् उससे भी एक कदम आगे बढ़ कर ‘‘नई पीढ़ी फाउंडेशन’’ के माध्यम से एक सामाजिक नव जागरण की दिशा में भी आगे बढ़ रहा है। 'नई पीढ़ी फाउंडेशन' अपने विभिन्न मंचों (महिला मंच, अभिभावक मंच, शिक्षक मंच, पर्यावरण मंच) इत्यादि के माध्यम से समाज के विभिन्न वर्गों को नई पीढ़ी के नव निर्माण हेतु कार्य करने को प्रेरित कर रहा है। फाउंडेशन का एक मात्र उद्देश्य नई पीढ़ी को देश का सच्चा नागरिक बनने में सहयोग करते हुये मानव कल्याण के दिशा में प्रेरित करना है।

ON FACEBOOK

CONTACT US